• Sun. Jul 21st, 2024

UP-बलिया के मशहूर डॉक्टर विनेश कुमार के यहाँ सरकारी जिला अस्पताल में बीमार बच्चों की उमड़ी भीड़

यूपी के बलिया में इन दिनों तेज़ी से मौसम बदलने की वजह से बच्चे सर्दी में बीमार हो रहे है ऐसे में सरकारी अस्पताल में बीमार बच्चो की डॉक्टर के पास भीड़ लगी हुई है। मौसम के मिजाज़ में अचानक बदलाव और बढ़ती ठंड के कारण जिला अस्पताल में सर्दी जुकाम खांसी निमोनिया के बच्चों की संख्या में अचानक बढ़त देखी जा रही है।सुबह शाम ठंड पड़ रही है, जबकि दिन में कभी कभी धूप निकलने के कारण मौसम गर्मा भी रहा है।लेकिन आज ठंडी के साथ हल्की बूंदाबांदी छोटे बच्चों और बुजुर्गो की मुश्किले बढ़ा दी है। जिसका प्रभाव बच्चों की स्वास्थ्य पर पड़ रहा है। अस्पताल पहुंचने वाले अधिकतर बच्चों में सर्दी, खांसी, जुकाम और तेज बुखार से पीड़ित बताये गये है।इस सम्बन्ध में अस्पतालों में बाल रोग विशेषज्ञों के यहां पीड़ित बच्चों की खासी भीड़ देखी जा रही है।

इधर मौसम के प्रतिकुल होने के बावजूद बच्चे मौका मिलते ही खेलने लग रहे हैं।जिसके कारण वे बिमार हो रहे हैं।ऐसे मौसम में बच्चों पर विशेष ध्यान देने की जरूरत है। जिला चिकित्सालय के बाल रोग विशेषज्ञ डाॅ. एक के उपाध्याय बताते हैं कि इस मौसम में बच्चों को वायरल निमोनिया की संख्या बढ़ जाती है इस साल भी वायरल निमोनिया के पेशेंट ज्यादा आ रहे हैं। सर्दी, खांसी और तेज बुखार और सांस लेने की तकलीफ होने लगती है। आम तौर पर ऐसे मरीजों को ओपीडी लेवल पर दवाइयां देकर छोड़ दिया जाता है। मगर यदि बच्चे को सांस लेने में तकलीफ हो रही है तो मरीज को भर्ती करके उचित उपचार यहां दिया जा रहा है। विशेषज्ञ डा.उपाध्यात का कहना है कि बच्चों के माता-पिता को चाहिए की वे अपने बच्चों को ठंड से बचाएं और भीड़ भाड़ वाली जगह पर जाने से बचे, स्वच्छ पानी और साफ सफाई का विरोध ध्यान रखें।सांस की दिक्कत होने पर तत्काल बाल रोग विशेषज्ञ से उपचार कराये। अन्यथा मरीज बच्चों की तकलीफ और बढ़ सकती हैं जिला अस्पताल के वरिष्ठ बाल विशेषज्ञ डा. विनेश कुमार से ICN संवाददाता आसिफ जै़दी ने बच्चों में बढ़ते संक्रमण को लेकर बात की तो दोनों बाल रोग विशेषज्ञों एक ही मत रहा। जिला अस्पताल में बाल रोग विशेषज्ञ डा. विनेश कुमार ने सर्दी के आते ही सर्दी के प्रभाव से बीमार होने वाले बच्चों के इलाज और बचाव के उपाय पूछे तो उन्होंने बताया कि मौसम के उतार-चढ़ाव के कारण बच्चों के बीमार होने की संख्या बढ़ जाती है। इससे सर्दी जुकाम और तेजबुखार से पीड़ित बच्चों की संख्या इन दिनों काफी बढ़ रही है। ऐसे में बदलते मौसम को देखते हुए माता-पिता को चाहिए कि बच्चों को ढंग से गर्म कपड़े पहनाए,। बच्चों को कम से कम बाहर निकले थे, क्योंकि बच्चों की इम्युनिटी सिस्टम कमजोर होती है इस कारण बच्चे जल्दी संक्रमण का शिकार हो जाते हैं। अगर कोई दिक्कत हो रही है तो तत्काल डॉक्टर की सलाह लेकर उसका उपचार समुचित रुप से शिशु रोग चिकित्सको से ही कराये।मेडिकल स्टोर दवा लेकर न कराये । कपड़ा हल्का और तीन लेयर में पहनाए नियमित गुनगुने पानी का प्रयोग करें, ताकि शरीर में पानी की कमी ना हो।बच्चों के शरीर को ढक कर रखें, गर्मी महसूस होने पर सारे कपड़े उतार कर बच्चों को एकदम वस्त्र विहिन ना करें। सर्दी जुकाम बुखार या गले की खरखराहट और सांस लेने में तकलीफ होने पर तत्काल डॉक्टर से सलाह लें, डाक्टर सलाह का ध्यान के साथ पालन करे। इस तरह से हम बदलते हुए मौसम से उत्पन्न होने वाली बीमारियों से अपने बच्चों को बचा सकते हैं।

By admin

Journalist & Entertainer Ankit Srivastav ( Ankshree)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *