• Sat. Jul 20th, 2024

देश की सबसे हल्की और छोटीबुलेट प्रूफ जैकेट कानपुर मे हुई तैयार, मिला 600 करोड़ का आर्डर।

Report By : Shariq Khan Kanpur (UP)

ऑर्डिनेंस इक्यूपमेंट फैक्ट्री (ओईएफ), कानपुर ने प्रधानमंत्री के आत्मनिर्भर भारत मिशन के तहत केरला पुलिस के लिए विशेष रूप से बुलेट प्रूफ जैकेट का निर्माण किया है। यह जैकेट ओईएफ के रिसर्च एंड डेवलपमेंट डिपार्टमेंट द्वारा विकसित किया गया है, और इसे ‘भाभा कवच’ का उन्नत रूप कहा जा रहा है। केरला पुलिस ने इन जैकेटों का परीक्षण किया है और 170 जैकेटों पर परीक्षण के सफल परिणाम प्राप्त हुए हैं। ये जैकेट रिवॉल्वर, एसएलआर, पिस्टल आदि की गोलियों से सुरक्षा प्रदान करते हैं और यहां तक कि एक बार में 6 गोलियां लगने पर भी उपयोगकर्ता को कोई नुकसान नहीं होता है।इस उन्नत भाभा कवच का वजन कम किया गया है, जो पहले 10 किलोग्राम था और अब 6.5 किलोग्राम हो गया है, जिससे इसे पहनना और उपयोग करना आसान हो गया है।

यह जैकेट 800 सेंटीमीटर के क्षेत्रफल को कवर करता है और इसमें नायलॉन का प्रयोग किया गया है। तीन स्तरों के परीक्षण में पास होने के बाद इसे एक महत्वपूर्ण उपलब्धि माना जा रहा है।केरला पुलिस ने इस जैकेट की डिमांड की थी और इसे तैयार करने में दो माह का समय लगा। अभी केरला पुलिस से 150 जैकेट का ऑर्डर मिला है और सीआरपीएफ से भी बातचीत चल रही है। इस भाभा कवच का उन्नत रूप मात्र 84 रुपये में उपलब्ध है जबकि इसकी कुल लागत 1.5 लाख रुपये है। ओईएफ को 600 करोड़ रुपये का ऑर्डर भी प्राप्त हुआ है।इस उपलब्धि को आत्मनिर्भर भारत मिशन के तहत एक महत्वपूर्ण कदम के रूप में देखा जा रहा है और यह भारतीय रक्षा अनुसंधान एवं विकास में एक मील का पत्थर साबित होगा। ऑर्डिनेंस इक्यूपमेंट फैकर्टी के महाप्रबंधक अनिल रांगा ने बताया की इस जैकेट को खास पुलिस फोर्स की मांग पर बनाया गया है और इस जैकेट के लिए केरल की पुलिस की ओर से मांग की गई थी जिसके चलते सभी मानकों , सुरक्षा दृष्टिकोण, वजन और सुविधाजनक होने के साथ आसानी से पहना और उतरने एक लिहाज से बनाया गया है जिसके चलते केरल पुलिस को अभी 170 जैकेट सप्लाई की गई है और इस जैकेट को लेकर अगली अलग फोर्स से लगभग 6 सौ करोड़ का ऑर्डर हमे मिला है जिसे जल्द से जल्द पूरा कर देश की पुलिस को भेजा जाएगा ।

By admin

Journalist & Entertainer Ankit Srivastav ( Ankshree)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *