• Sat. Apr 20th, 2024

UP News : सैफई में भूमाफियाओं के एक दर्जन गुर्गों ने भाजपा कार्यकर्ता अवनीश जाटव पर किया हॉकी से किया हमला

इटावा। थाना सैफई से मात्र 200 मीटर दूर चौधरी चरण सिंह पीजी कॉलेज के हॉस्टल के बगल में दुकान किए भाजपा कार्यकर्ता अवनीश जाटव को 1 दर्जन से अधिक नामजद व अज्ञात गुंडों ने लाठी डंडे से बुरी तरह मारपीट कर घायल कर दिया। घटना के बाद मौके पर पहुंची पुलिस ने घायल भाजपा कार्यकर्ता को सैफई के मेडिकल में भर्ती कराया है। घटना के पीछे जमीन की रंजिश बताई जा रही है इस जमीन की कल नापतोल होनी थी नापतोल से पहले ही भू माफियाओं ने अवनीश जाटव की हत्या करने की कोशिश की। अवनीश का आरोप है कि हमलावर बैनामा के लिए रखे दो लाख रुपये व क़ीमती घड़ी भी लूट ले गये और मोबाइल को तोड़ दिया जिसमें भूमाफ़ियाओं के विरुद्ध काफ़ी सबूत थे।

ग्राम नगला सुभान थाना सैफई निवासी अवनीश जाटव भारतीय जनता पार्टी का कार्यकर्ता है उसका आरोप है कि उसकी जमीन पर कुछ लोगो  ने अवैध कब्जा कर रखा था। उसने इसकी शिकायत जिलाधिकारी इटावा व एसएसपी को लिखित रूप से की थी और भूमाफियाओं के विरुद्ध कार्यवाही की मांग की थी।कल सैफई तहसील की राजस्व टीम द्वारा प्लाट की नापतोल भी होनी थी। उससे पहले ही आज हमला कर दिया गया। हमले की सूचना पर सैफई पुलिस मौके पर पहुंची और घायल अवनीश जाटव को लेकर थाने आई। पीड़ित को सैफई के मेडिकल कालेज में भर्ती कराया गया है। तथा घटना का मुकदमा पंजीकृत किया जा रहा है

क्या कहते है अधिकारी

सीओ सैफई नागेंद्र चौबे का कहना है घटना संज्ञान में है मुकदमा दर्ज कर जांच करके कार्यवाही की जाएगी।अगर पीड़ित के ट्वीट को संज्ञान लिया होता तो नही होती घटना अवनीश जाटव का कहना है कि विपक्षी मेरी जमीन पर लंबे समय से कब्जा किए थे इस वजह से मैंने भारतीय जनता पार्टी की सदस्यता  ग्रहण की थी। और चुनाव में 1 दर्जन से अधिक मंत्री सांसद विधायकों के साथ सैफई क्षेत्र के गांव में घूमकर भाजपा प्रत्याशी रघुराज सिंह शाक्य के लिए वोट मांगे और भाजपा का बस्ता लगाया।

बस्ता लगाने के दौरान दो पूर्व प्रधानों ने इसका भी विरोध किया और बस्ता फाड़ दिया इसकी शिकायत मैंने फोन पर जिलाधिकारी इटावा और एसएसपी को दी थी। मौके पर दोनों अधिकारी आए थे और सैफई एसओ को कार्रवाई के लिए आदेश देकर गए थे। लेकिन पुलिस ने कोई कार्रवाई नहीं की अगर पुलिस ने कार्रवाई की होती तो यह घटना नहीं। होती इसके बाद उन्होंने बताया कि ग्राम प्रधान द्वारा मेरे विरुद्ध कई फर्जी शिकायतें की गई जिसमें प्रधान ने शिकायत की कि मैं गांव में बूचड़खाना चलाता हूं जब कि मेरे द्वारा कोई बूचड़खाना नहीं चलाया जा रहा था इसके अलावा कई और भी फर्जी शिकायत की गई थी जो कि जांच में झूठी पाई गई। सैफई थानाध्यक्ष ने भू माफियाओं के विरुद्ध मुकदमा दर्ज करने के बजाय मेरे मां-बाप व मेरे विरुद्ध दो फर्जी झूठे मुकदमे दर्ज कर लिए।

खुद को बचाने की साजिश में असफल रहे भूमाफिया

आज दिन में भूमाफिया पूरे दिन अवनीश जाटव पर हमले की योजना बनाते रहे और इस हमले से खुद को बचाने की भी साजिश रचते रहे । सबसे पहले भू माफियाओं ने अपने ऊपर रास्ता घेरने का आरोप लगाकर थानाध्यक्ष सैफई व सीओ सैफई को फोन किया और शिकायत करने के लिए सीओ सैफई ऑफिस पहुंच गए उससे पहले भूमाफिया हमला करने की पूरी साजिश रच चुके थे। क्योंकि हमले में खुद ना फँस सकें और हमला भी हो जाए इसलिए उन्होंने खुद को सुरक्षित रखने के लिए सैफई सीओ के पास बैठना सही समझा और वहीं बैठे बैठे अपने गुर्गों से हमला करवा दिया मौके पर जब पुलिस पहुंची तब तक हमलावर भाग चुके थे।

घायल भाजपा नेता की पत्नी ने लगाया एसओ पर हमला करवाने की साजिश रचने का आरोप

भाजपा नेता की पत्नी आरती का कहना है कि मेरे पति अवनीश जाटव द्वारा कई बार शिकायतें की गई और समाचार पत्रों में भी थानाध्यक्ष सैफई के विरुद्ध खबरें प्रकाशित कराई गई क्योंकि थानाध्यक्ष द्वारा भू माफियाओं के विरूद्ध मुकदमा दर्ज करने के बजाए मेरे पति सास और ससुर के विरुद्ध दो झूठे मुकदमा पंजीकृत कर दिए। इसके बाद एक और बलात्कार का मुकदमा दर्ज कराने की तैयारी चल रही है। थानाध्यक्ष बुरी तरह से खिसियाये हुए है। और एसओ ने हमले का पूरा ताना-बाना बुना है हमले के बाद मेरे पति को अस्पताल में भर्ती करा दिया गया अस्पताल में भी हमलावर गुंडे जान से मारने के लिए घूम रहे हैं एक भी पुलिसकर्मी मेरे पति के पास मौजूद नहीं है इसकी शिकायत भी  डीजीपी व एडीजी एसएसपी को फोन पर की गई है।

एक दर्जन हमलवारों के विरुद्ध थाना सैफई मुकदमा दर्ज, सीओ सैफई करेंगे विवेचना भाजपा कार्यकर्ता अपनीश जाटव के ऊपर जानलेवा हमला करने के मामले में राधाकृष्ण यादव प्रधान व सुनील प्रताप सिंह प्रधान समेत एक दर्जन अभियुक्त के विरुद्ध पुलिस ने पीड़ित अवनीश जाटव की तहरीर पर मुकदमा दर्ज कर लिया है। अगर समाचार पत्र की खबरों व ट्वीट को संज्ञान लिया होता तो टाली जा सकती थी घटना

पीड़ित भाजपा कार्यकर्ता अवनीश  जाटव पिछले 1 माह से लगातार पुलिस प्रशासन से अपनी मदद की गुहार लगाता हुआ घूम रहा है । उसने अभियुक्तों के खिलाफ कई शिकायतें की लेकिन थानाध्यक्ष सैफई रमेश सिंह ने अभियुक्तों के विरुद्ध कोई कार्यवाही नहीं की। कार्यवाही न होने पर पीड़ित ने पत्रकारों से जाकर व्यथा कही और कई समाचार पत्रों यूट्यूब चैनलों में अपने उत्पीड़न की खबरें प्रकाशित कराई। और उन खबरों को प्रदेश के पुलिस महानिदेशक, अपर पुलिस महानिदेशक कानपुर, आईजी कानपुर, एसएसपी इटावा, को संज्ञान में लाने के लिए ट्वीट किया लेकिन उसके द्वारा किए गए 10 ट्विट पर एक भी पुलिस अधिकारी का कोई रिप्लाई नहीं आया।

पीड़ित के ट्वीट को जानबूझकर अनदेखा करने से यह साबित होता है कि सैफई के इन भूमाफियाओं की जड़े लखनऊ डीजीपी कार्यालय तक जमी है। पीड़ित अवनीश जाटव का कहना है कि हमले में थाना प्रभारी रमेश सिंह का पूरा हाथ है  अगर यह थाने में रहे तो तो मेरी हत्या तय है पहले थानाध्यक्ष खुद एनकाउंटर की मुझे धमकी दे रहा था जब हमने धमकी की शिकायत व ट्वीट कर दिया तो थानाध्यक्ष ने जानलेवा हमला करवा दिया। थानाध्यक्ष को तत्काल बर्खास्त किया जाए।

By admin

Journalist & Entertainer Ankit Srivastav ( Ankshree)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *