• Mon. Feb 26th, 2024

UP-पीलीभीत का रेलवे स्टेशन बनेगा ,आदर्श स्टेशन जंक्शन

यूपी के पीलीभीत उत्तराखंड की तराई में स्थित पीलीभीत रेलवे स्टेशन को अब आदर्श रेलवे स्टेशन में गिना जाता है, लेकिन अब तक यहां 2018 से चल रहे ब्राडगेज का काम पूरा न होने की वजह से पीलीभीत के व्यापारियों से लेकर शिक्षा व विभागीय कार्यो के लिए राजधानी लखनऊ से जोड़े जाने का इंतजार है। हालांकि दिल्ली तक एक पूर्णागिरी जन शताब्दी रेल की सुविधा का यात्रियों को लाभ मिल रहा है। रेलवे स्टेशन पर स्वच्छता की द्रष्टि से अगर बात की जाए तो स्टेशन के सभी शौचालयो से लेकर पानी के नलों की बेहतर व्यवस्था है। साथ ही यात्रियों के लिए प्रतीक्षालय भी सुंदर टाइगर रिजर्व के वन्य जीवों से लेकर पीलीभीत की विश्व विख्यात बांसुरी के बाल पेंटिंग से सजाया गया है।

यहां 2018 से लगातार पीलीभीत में मीटर गेज से ब्राडगेज का कार्य किया जा रहा है, लेकिन अब तक यह कार्य पूरा नहीं हो सका है, फिलहाल रेलवे स्टेशन पर आने वाले यात्रियों को बेहतर साफ सफाई के साथ बेहतर शौचालय की व्यवस्था तो देखने को मिलती है। लेकिन रेलवे के पुल पर जाने के लिए प्लेटफार्म न03 व 04 पर दिव्यांग व ह्रदय रोगियों को जाने में दिक्कत का सामना करना पड़ रहा है। जिसको लेकर पुल के साथ साथ रैंप पुल या एक्सीलेटर की व्यवस्था होनी चाहिए। पीलीभीत रेलवे स्टेशन आज भी हमारे देश के मुख्य रेल नेटवर्क से नहीं जुड़ पाया। बीते कुछ दिनों पूर्व में पूजा स्पेशल ट्रेन संचालित की गई थी, जो दिल्ली तक सही समय पर गन्तव्य करती थी। जिसको अब एक दिसम्बर से बंद कर दिया गया। उसको व्यापारियों व यात्रियों के हित के लिए संचालित करना चाहिए। एक अन्य रेल पूर्णागिरी जन शताब्दी संचालित की जा रही है जो दिल्ली तक पहुचने में 12 घण्टे का समय लेती है जिससे समय की काफी खपत सफर करने वालो को झेलनी पड़ती है। और ये खुशी की बात है भारत का सबसे बड़ा पांचवा सुप्रसिद्ध स्टेशन बनाया जा रहा है। इसी को ध्यान में रखकर बेहतर सुविधाओं को दिया जाना है, साथ ही उत्तराखंड की दूरी लगभग 40 किलोमीटर दूरी पर है जिसकी वजह से उत्तराखंड मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी की विधानसभा क्षेत्र चंपावत भी इसी ner डिविजन में आती है। दोनो मुख्यमंत्रियो से यही उम्मीद है जनहित के लिए कि जल्द ही दिल्ली व राजधानी से कनेक्ट कर दिया जाए तो ये बेहतर रहेगा।इसमे रेल प्रशासन यदि यूपी राजधानी से शहाजहाँपुर ट्रैक से लखनऊ तक दे दी जाए तो सभी विभागीय व चिकित्सा क्षेत्र का लाभ बहुत अच्छे से मिल पाये

बाईट विकास यात्री ने बताया कि मैं बरेली जा रहा हूँ, स्टेशन पर पेयजल व शौचालय की ठीक व्यवस्था है लेकिन दिल्ली व लखनऊ तक रेल संचालन बेहतर से शुरू हो जाएगा तो जिले के व्यापार व शिक्षा,एवं स्वास्थ्य से लेकर विभागीय कार्यो में प्रगति आएगी।

By admin

Journalist & Entertainer Ankit Srivastav ( Ankshree)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *