• Mon. Jun 17th, 2024

हीटवेव के मद्देनजर अस्पताल में आपातकालीन सेवाओं को सीएमओ ने परखा, इमरजेंसी में दो डॉक्टरों की तैनाती के निर्देश…

Report By : Rishabh Singh, ICN Network

बुंदेलखंड के महोबा में नौतपा का तीसरा दिन कहर बरपा रहा है और आज 46 डिग्री तापमान होने से हीट स्ट्रोक के मरीजों की संख्या भी बढ़ती दिखाई दी है। यही वजह है कि जिले में हीट वेव को लेकर सीएमओ ने अस्पताल की इमरजेंसी सेवाओं को मौके पर जाकर परखा है। जिला पुरुष अस्पताल और महिला अस्पताल का सीएमओ ने निरीक्षण किया। इस दौरान उन्होंने इमरजेंसी वार्ड में हीट वेव के मद्देनजर एक सप्ताह के लिए दो डॉक्टरों की तैनाती के निर्देश दिए। साथ ही इमरजेंसी में पीने की पानी और कूलर, एसी की व्यवस्था सही ना पाए जाने पर नाराजगी जताई है। यही नहीं उन्होंने साफ तौर पर कहा कि इस हीटवेव के दौरान इमरजेंसी सेवाओं को बेहतर रखा जाए। निरीक्षण के दौरान हीट स्ट्रोक के पहुंचे दो मरीजों का बदन पानी से उनके द्वारा पोंछकर इलाज किया गया।

दरअसल आपको बता दें कि भीषण गर्मी में महोबा का पारा 46 डिग्री पहुंच चुका है। जिससे हीट स्ट्रोक के मामले भी बढ़ रहे है। जिला अस्पताल में इस समय हीट स्ट्रोक की चपेट में आए मरीज पहुंच रहे हैं। शासन की मंशा अनुरूप हीट वेव के चलते जिला अस्पताल की आपातकालीन सेवाओं को परखने के लिए सीएमओ डॉक्टर आशाराम पुरुष जिला अस्पताल और महिला जिला अस्पताल का निरीक्षण करने पहुंचे। जहां उन्होंने अस्पताल के सभी वार्डों का निरीक्षण कर अन्य अनुभागों का भी निरीक्षण किया है। उनके द्वारा दोनों अस्पतालों के सीएमएस को निर्देश दिए गए कि हीटवेव को देखते हुए पीने के पानी की व्यवस्था के साथ-साथ वार्डों में लगे ऐसी और कूलर सुव्यवस्थित तरीके से रखे जाएं ताकि यहां आने वाले मरीज और उनके तीमारदारों को किसी प्रकार की कोई समस्या उत्पन्न न हो। सीएमओ डॉक्टर आसाराम निरीक्षण करने जिला अस्पताल के इमरजेंसी वार्ड भी पहुंचे। जहां उन्होंने देखा की मुरानी गांव निवासी 80 वर्षीय कालीचरण और ग्योडी गांव निवासी 72 वर्षीय भवानी हीट स्ट्रोक की चपेट में है। ऐसे में तत्काल उन्होंने निरीक्षण के दौरान ही दोनों मरीजों का इलाज शुरू कर दिया।उनके द्वारा दोनों ही मरीजों के बदन को पानी से पोंछकर मुचित इलाज दिया गया। यही नहीं इमरजेंसी वार्ड में लगातार बढ़ रहे मरीजों की संख्या को देखते हुए सीएमओ डॉक्टर आसाराम ने इमरजेंसी में एक सप्ताह के लिए दो डॉक्टर की तैनाती के निर्देश दिए हैं ताकि यहां आने वाले मरीजों को उचित और समय से इलाज मिल सके। इस दौरान उन्होंने इमरजेंसी वार्ड में पीने के पानी की व्यवस्था सही ना पाए जाने और एसी कूलर व्यवस्थित ना मिलने पर सीएमएस को व्यवस्था बेहतर रखने के निर्देश दिए। उन्होंने साफतौर पर कहा कि इस समय हीटवेव का कहर लोगों पर हीट स्ट्रोक बनकर टूटा है। ऐसे में जरूरत है कि आपातकालीन सेवाएं सही रखी जाए। यही वजह है कि अस्पताल की इमरजेंसी सेवाओं में बेहतर रखरखाव के साथ-साथ आने वाले मरीज और तीमारदारों के लिए ठंडा पीने के पानी के साथ-साथ ठंडी हवा आदि की व्यवस्था किए जाने के निर्देश दिए गए। होने साफतौर पर भीषण गर्मियों से बचने के शासन के निर्देशों का हवाला देते हुए कहा कि स्वास्थ्य विभाग की मंशा है कि इस भीषण गर्मी में इलाज के आभाव में किसी की मौत ना हो ना ही किसी प्रकार की कोई जनहानि हो। उन्होंने इस दौरान अस्पताल के अंदर आज से बचाव को लेकर अग्निशमन उपकरणों को भी चेक किया और पाया कि अभी भी अस्पताल में आग से बचाव के लिए लगाए उपकरण अधूरे हैं जिन्हें जल्द से जल्द पूरा किए जाने के निर्देश सीएमओ डॉक्टर आसाराम ने दिए हैं।

By admin

Journalist & Entertainer Ankit Srivastav ( Ankshree)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *