• Sat. Jul 13th, 2024

PM मोदी तीसरी बार शपथ लेने के बाद पहली बार पहुंचे काशी, 27 मिनट के भाषण में किसानों पर भी फोकस

Report By : Ankit Srivastav, ICN Network

तीसरी बार PM बनने के बाद पहले मोदी पहले वाराणसी दौरे पर हैं। पीएम ने 9.60 करोड़ किसानों को सम्मान निधि की 17 वीं किस्त जारी की। उन्होंने 20 हजार करोड़ रुपए किसानों के खाते में डाले।

पीएम ने भाषण में मोदी का फोकस किसान, महिला, विकास और काशी पर रहा। उन्होंने विपक्ष और राजनीति की बात नहीं की।

पीएम ने कहा- चुनाव जीतने के बाद हम पहली बार बनारस आयल हई। जनता जनार्दन के हमार प्रणाम, काशी के लोगों ने हमें लगातार अपना प्रतिनिधि चुनकर धन्य कर दिया है। अब तो मां गंगा ने भी मुझे गोद ले लिया है। मैं यहीं का हो गया हूं। मैं चाहता हूं दुनिया के हर घर में डायनिंग टेबल पर भारतीय अनाज हो।

पीएम थोड़ी देर में 8 किमी लंबा रोड-शो करेंगे। इसके बाद कालभैरव और बाबा विश्वनाथ का षोडशोपचार कर विशेष पूजन करेंगे। घाट पर मां गंगा का दुग्धाभिषेक कर पूजन करेंगे। गंगा आरती में भी शामिल होंगे। यह पीएम का 51 वां वाराणसी दौरा है।

पीएम ने कहा-मैंने किसान, नौजवान, नारी शक्ति को विकसित भारत का मजबूत स्तंभ माना है। इसलिए मैंने सरकार बनने के बाद सबसे पहले इन्हीं को प्राथमिकता में रखा, सरकार बनने के बाद किसानों से जुड़ा।

पीएम किसान सम्मान निधि दुनिया की सबसे बड़ी ट्रांसफर निधि बन चुकी है। मेरा सपना है दुनिया की हर डाइनिंग टेबल पर भारत का कोई न कोई खाद्यान्न यानी फूड प्रोडक्ट होना चाहिए।बनारस का लंगड़ा आम, जौनपुर की मूली, गाजीपुर की भिंडी ऐसे अनेक उत्पाद विदेशी मार्केट में पहुंच रहे हैं।

पीएम मोदी ने हर-हर महादेव से भाषण शुरू किया। चुनाव जीतने के बाद आज हम पहली बार बनारस आइल है। काशी के जनता जनार्दन के हमारा प्रणाम। बाबा विश्वनाथ और मां गंगा के आशीर्वाद, काशी के असीम स्नेह से मुझे तीसरी बार देश का प्रधान सेवक बनने का सौभाग्य मिला है।

काशी के लोगों ने मुझे लगातार तीसरी बार अपना प्रतिनिधि चुनकर धन्य कर दिया है। अब तो मां गंगा ने भी जैसे मुझे गोद ले लिया है। मैं यहीं का हो गया।इतनी गर्मी के बावजूद बड़ी संख्या में आप आशीर्वाद देने आए। आपकी तपस्या देखकर सूर्य देवता भी ठंडक
बरसाने लग गए।

By admin

Journalist & Entertainer Ankit Srivastav ( Ankshree)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *